Difference Between Social Institution, Social Structure and Social System

Sociology is the science of society, understand about our society and understand about the history of society, we will understand about society in society and we understand about social institution in this social.

समाजशास्त्र समाज का विज्ञान है अपने समाज के बारे में समझते हैं और समाज के इतिहास के बारे में समझते हैं समाज में सोसाइटी के बारे में समझ पाएंगे और हम इस सामाजिक में सोशल इंस्टिट्यूशन के बारे में समझते हैं

Social Institution

In Social Institution we mainly study different types of Institution like study about family, study about economy, study about politics, study about education. and study about religion. What we mean to say is that we can understand the social institution in such a way that there is such a part of this society, there is such a society or the society in which we are living in that society which is of family, economics, politics, education and religion. Talks are done, all these are called social institutions.

सामाजिक संस्था में हम मुख्य रूप से विभिन्न प्रकार के संस्थानों का अध्ययन करते हैं जैसे परिवार के बारे में अध्ययन, अर्थव्यवस्था के बारे में अध्ययन, राजनीति के बारे में अध्ययन, शिक्षा के बारे में अध्ययन। और धर्म के बारे में अध्ययन करें। हमारे कहने का मतलब यह है कि हम सामाजिक संस्था को इस तरह से समझ सकते हैं कि इस समाज का एक हिस्सा है, ऐसा समाज या समाज है जिसमें हम उस समाज में रह रहे हैं जो परिवार, अर्थशास्त्र, राजनीति, शिक्षा और धर्म। बातें की जाती हैं, ये सब सामाजिक संस्थाएँ कहलाती हैं।

Social Values

Social value means such a law of the society, such a sand of the society that it has been made by the man of the society or we can say that the social law has the value of the society.

सोशल वैल्यू का मतलब होता है समाज का एक ऐसा कानून समाज की एक ऐसी रेती जो कि वह समाज के मनुष्य ने बनाई हुई है या फिर हम कह सकते हैं कि सामाजिक कानून की समाज की वैल्यू है

The society is the best, the society which has the highest social value and in order to increase the social value more, the people of the large section of the society, the intelligent people of the society have worked hard for the society and create a good value of the society. It has to be done so that the people of the society follow it and a better society can be imagined.

वह समाज सबसे अच्छा होता है जिस समाज के सामाजिक वैल्यू सबसे अधिक होती है और समाजिक वैल्यू को अधिक बढ़ाने के लिए समाज के बड़े वर्ग के लोग यह समाज के बुद्धिजीवी लोग ने समाज के लिए मेहनत की हुई होती है और समाज की एक अच्छी वैल्यू क्रिएट करनी होती है जिससे कि समाज के व्यक्ति उसे फॉलो करें और एक बेहतर समाज की कल्पना की जा सके

Social Norms

Social norms mean that for a long time in the society, due to social values, a kind of train runs or runs like respecting elders is a social norm.

सोशल नॉर्म्स का मतलब होता है कि समाज में बहुत दिनों से जो सामाजिक वैल्यू के कारण एक प्रकार का ट्रेन चलता है या चल जाता है जैसे कि बड़ों का आदर करना एक समाजिक नॉर्म्स है

The social norm which is created by social values ​​and which the society runs, becomes very important, no matter what the society is, it runs on the social norms and only then that society can move forward, that is why a better society is the key to the success of any society. In order to make it necessary that all the people of the society obey the social norm and it is also necessary that the social norm made by the society should be checked from time to time whether that social norm is right for the individuals of the society. Is it or not and if it is wrong then it should be removed and good things should always be accepted by the people of the society.

सामाजिक वैल्यू के द्वारा जो सामाजिक मानदंड तैयार होता है और जिसे समाज चलता है वह बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है चाहे कोई भी समाज हो सामाजिक मानदंड पर ही चलती है और तभी वह समाज आगे बढ़ पाती है इसीलिए किसी भी समाज की सफलता के लिए बेहतर समाज बनाने के लिए यह जरूरी हो जाता है कि समाज के सभी व्यक्ति सामाजिक मानदंड को माने और यह भी जरूरी हो जाता है कि समाज के द्वारा बनाया गया सामाजिक मानदंड कुछ समय समय पर जांच किया जाए कि क्या वह सामाजिक मानदंड समाज के व्यक्तियों के लिए सही है या नहीं और अगर गलत हो तो उसे हटा देनी चाहिए समाज के लोगों द्वारा और अच्छी चीजों को हर हमेशा स्वीकार करनी चाहिए

Social Structure/Social System

Social structure means when we combine social institutions with social values and social norms, then it is called social structure and all of them together form a social system.

सोशल स्ट्रक्चर का मतलब होता है जब हम सोशल इंस्टीट्यूशन को सोशल वैल्यू तथा सोशल नॉर्म्स के साथ आपस में जोड़ देते हैं तब सोशल स्ट्रक्चर कहलाता है और यह सभी आपस में मिलकर सोशल सिस्टम का निर्माण करते हैं

Whenever we imagine society, we must use social structure and social system, so it is necessary that we try to understand social system from different perspective like positivists believe that social structure or social system All the individuals of the society are affected through.

जब भी हम समाज की कल्पना करते हैं तो हम सोशल स्ट्रक्चर और सोशल सिस्टम को जरूर उपयोग करते हैं इसलिए जरूरी हो जाता है कि हम अलग-अलग पर्सपेक्टिव से सोशल सिस्टम को समझने का प्रयास करें जैसे कि पॉजिटिविस्ट मानते हैं की सोशल स्ट्रक्चर या सोशल सिस्टम के द्वारा समाज के सभी व्यक्तियों पर प्रभाव पड़ती है जबकि इसके उल्टा नंऩ पॉजिटिविस्ट मानते हैं कि कोई एक पर्सनल व्यक्ति के द्वारा समाज पर प्रभाव पड़ता है

What kind of social structure was there in the time of Lord Shri Krishna and Lord Shri Ram and in the same way we also try to understand what kind of social structure was there in Vedic times and what kind of social structure we have today. We will study and understand the subject and we have tried to understand the basic terminology of sociology through our calculation game.

भगवान श्री कृष्ण और भगवान श्री राम के समय में किस प्रकार की सामाजिक स्ट्रक्चर थी तथा उसी प्रकार से हम यह भी समझने का प्रयास करते हैं कि वैदिक समय में किस प्रकार के सामाजिक स्ट्रक्चर थी और आज किस प्रकार के सामाजिक स्ट्रक्चर है हम प्रकार से सोशियोलॉजी सब्जेक्ट को स्टडी करेंगे और से समझेंगे और हम अपने हिसाब खेल के माध्यम से सोशलॉजी के बेसिक टर्मिनोलॉजी को समझने का प्रयास किया है

Leave a Reply

Your email address will not be published.